Copyright © 2007-present by the blog author. All rights reserved. Reproduction including translations, Roman version /modification of any material is not allowed without prior permission. If you are interested in the blog material, please leave a note in the comment box of the blog post of your interest.
कृपया बिना अनुमति के इस ब्लॉग की सामग्री का इस्तेमाल किसी ब्लॉग, वेबसाइट या प्रिंट मे न करे . अनुमति के लिए सम्बंधित पोस्ट के कमेंट बॉक्स में टिप्पणी कर सकते हैं .

Feb 13, 2014

Two poems with two facets of love.



Happy Valentine's Day!

1. प्रेम
******

ज़रा सी जगह
ज़रा सी रौशनी में
बहुत बहुत नम किसी कोने
क़िरमिज़ी किरणों का रंग लिए
खिलते हैं कनेर के फूल
हवा में घुलता
मिट्टी तक फैलता जाता
लाल रंग...

1. Love
****

In a little, moist corner,
under scant sunshine,
the scarlet Keli flowers bloom.

Hue of crimson,
diffuses in the air,
spreads on the earth....

2. प्रतीक्षा
******
गुल-ए-सुर्खी सी तेरी याद थी
ओठों पर उग आयी काँटों की चुभन
दिल अम्ल का रिसता झरना
गलती रही इच्छाएं...

2. Lull
***
His reminiscence is like a crimson rose,
whose pricks unceasingly emerge on my lips.
My heart a rivulet of acid,
where my desires dissolve one by one...






No comments:

Post a Comment

असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।