Copyright © 2007-present by the blog author. All rights reserved. Reproduction including translations, Roman version /modification of any material is not allowed without prior permission. If you are interested in the blog material, please leave a note in the comment box of the blog post of your interest.
कृपया बिना अनुमति के इस ब्लॉग की सामग्री का इस्तेमाल किसी ब्लॉग, वेबसाइट या प्रिंट मे न करे . अनुमति के लिए सम्बंधित पोस्ट के कमेंट बॉक्स में टिप्पणी कर सकते हैं .

Sep 20, 2014

अस्कोट -आराकोट अभियान -03 : पिथौरागढ़

२३-२४ मई २०१४

अल्मोड़ा से पिथौरागढ़ के लम्बे पहाड़ी  रास्ते पर बीच-बीच में छितरी आबादी की झलक मिलती है, रह रह कर, दरक गए पहाड़ दिखते हैं, मालूम नहीं कि ये सिर्फ पिछले साल की बारिश की ही तबाही है, या कुछ सालों में हुयी बारिशों का मिलाजुला असर, किसी भी साल की बारिश क्यों इन पहाड़ों को बख़्श देने वाली है?  वो पेड़ जो अपनी जड़ों में नमी संजोंकर मिट्टी को बांधे रख सकतें हैं बहुत कम है,  जल्दी जल्दी कटान हो सके इसीलिए पहाड़ों में सिर्फ और सिर्फ जल्दी बढ़ने वाले चीड़ का ही प्लांटेशन किया गया है,  देवदार के भरे पूरे पेड़ के लिए सौ साल कौन इंतज़ार करे ?

 चारों ओर हिमालय का अथाह विस्तार है, अच्छी, खुशनुमा धूप, और ठंडी हवा है.   रास्ते में १०-१० रूपये में काफल बेचने वाले लड़के हैं.  हम लोग एक चाय की दुकान पर कुछ देर रुके तो वहीं परपारम्परिक नीली-पीली पौशाक में छलिया नर्तकों की एक टीम मिली, जो किसी बारात में जा रहे हैं.  सभी छलिया नर्तक पुरुष हैं, स्त्रियोचित मेकअप में, काली पेन्सिल की भवें, लिपस्टिक, रूज़, मस्कारा और माथे पर छोटी छोटी लाल सफ़ेद बिंदियाँ.   हमारी रिक्वेस्ट पर एक छोटा सा झोड़ा ये लोग सुनाते हैं,  एक बारगी मुझे चीनी फिल्म 'फेरवेल माई कोनकुबाइन' की याद हो आती है.

छलिया नृत्य मुख्यत: पिथौरागढ़ और नेपाल के कुछ इलाकों में बेहद लोकप्रिय पारम्परिक नृत्य है, कुछ वैसे ही जैसे गढ़वाल में पांडव नृत्य है.  यह युद्ध का स्वाँग है.  छलिया नर्तक पुरुष प्राचीन सैनिकों जैसी वेशभूषा धारण कर तलवार और ढाल लेकर युद्ध-नृत्य करते हैं, ढोलिया एक तरह से पूरे नृत्य का संचालक होता है, और साथ में दमाऊ, रणसिंग, तुरही और मशकबीन भी बजते रहे हैं.  नृत्य नाटिका का मुख्य नैरेटिव युद्धभूमी में छल के महत्त्व पर केंद्रित रहता है, और कई तरह की व्यूह रचनाओं का वर्णन और स्थानीय राजाओं और नायकों की विजयगाथाओं की क़िस्सागोई चलती रहती है. बीच बीच में जब नर्तक विराम लेते हैं, तो गायक चांचरी की तान छेड़ देता है.  छल से ही 'छलिया' या 'छोलिया' नाम पड़ा है.

लगातार तीन चार घंटे से बिना रुके गाड़ी चल रही है, निर्जन लैंडस्केप में शाम ढलते ढलते लगता है कि कौन देश है? इतनी दूर तक जाकर लोग क्यों बस गए, और अब तक क्यों यहाँ बने हुए हैं.  मेरे पिता दस वर्षों तक पिथौरागढ़ के कई छोटे कस्बों में रहे, हम लोग माँ  के साथ नैनीताल जिले में ही अपनी पढ़ाई करते रहे. इतने वर्षों बाद ये देखना कि पिथौरागढ़ की वो तमाम जगहें, लोहाघाट, धारचूला, चल्थी, मुनस्यारी, तवाघाट कैसी हैं, किन रास्तों से होकर पिताजी वहां जाते थे , मेरे लिए एक तरह की व्यक्तिगत भरपायी है.

 एक जगह एक बड़ा ट्रक खड्ड में गिरा हुआ है, शायद जबतक इसके  अवशेष प्रकृति में मिल नहीं जाएंगे तब तक पड़ा रहेगा, इतनी गहरी खाई से निकलने का कोई रास्ता नहीं है.  हमारा ड्राइवर हिमांचली है, पहाड़ से वाकिफ है लेकिन इस रुट पर पहली बार आया है, शाम  ढलने लगी है, और उसके माथे अगले दिन की भी चिंता है कि इस पूरे रास्ते उसे दिल्ली तक अकेला ही लौटना पड़ेगा. इस सबके अलावा वो खुशमिज़ाज नौजवान है, बीच बीच में काँगड़ी में गीत सुनाता है, दिल्ली में उसका कोई उत्तराखंडी दोस्त है जिसने उसे गढ़वाली-कुमायूँनी गाने भी सिखाये हैं.

ये  ड्राइवर स्टीव ड्रन के साथ दिल्ली से आया है. स्टीव सिटी यूनिवर्सिटी न्यू यॉर्क में प्रोफ़ेसर हैं.  उनकी रिसर्च का विषय खुशहाली है.  खुशहाली को लेकर और विभिन्न देशों और समाजों की 'हैप्पीनेस इंडेक्स' को लेकर कुछ बातचीत हम लोग करते हैं. स्टीव ने बॉलीवुड की फिल्मों को लेकर कुछ भारतीय संस्कृति और समाज को समझने की कोशिश की है,  कई भारतीय शहरों में घूमकर उन्होंने लोगों से बात की है.  मैंने  स्टीव से कहा कि बॉलीवुड की फिल्में फ्रॉड हैं, उसका भारतीय समाज से कुछ लेना देना नहीं है.  वो महज इंटरटेनमेंट शो है, और जो बातचीत उसने घूमकर बड़े शहरों में सिर्फ मर्दों से की है वो भी सही तस्वीर नहीं बताती. खुशहाली की असली तस्वीर औरतों, बच्चों, ग्रामीण और हाशिये पर खड़े समुदायों की भागीदारी के बिना नहीं बनायी जा सकती है.

लगभग रात के आठ बजे हम पिथौरागढ़ पहुंचे, वहां अधिकतर लोगों के रुकने का इंतज़ाम ललित खत्री जी के मेघना होटल में है. मैं, अंजली और हिमानी, शेखर दा  के साथ उनकी दीदी  के घर पहुँचते है. रास्ते में ललित पंत जी के घर होते हुए, जो पुराने अस्कोट-आराकोट  यात्राओं के भागीदार रहे हैं. लक्ष्मी दीदी के घर पर उनकी दो बहुएं और तीन  छोटे छोटे नाती-नातिन हैं. अभी तक की तो लगता है यात्रा हुयी नहीं, घर के ही आराम के बीच हूँ.

जेटलेग का असर या जो भी, अच्छी ही बात है कि  सुबह उठने में परेशानी नहीं हुई, पांच बजे तक नहाकर तैयार हो  गयी हूँ, हल्का सा धुंधलका है , लेकिन चिड़ियों की बड़ी मीठी मीठी आवाज़ें आ रही हैं....

उजाला हुआ तो सामने दूर दूर तक फैली बसावट नज़र आ रही है, बहुत बड़ी खुली घाटी, लगभग समतल घाटी.  पहाड़ी शहरों में मुकाबिले प्रकृति ने पिथौरागढ़  पर विशेष कृपा की है.  शहर में बहुत घनी बसावट है, अधिकतर मकान सीमेंट के, अपेक्षाकृत हवादार हैं, मोर्डर्न हैं. पारम्परिक घर अब नहीं के बराबर हैं , या फिर वो हैं जिन्हे  लोग छोड़ कर चले गए हैं, या फिर बहुत गरीब लोगों के जिनके पास फिलहाल नए तरह के घर बनाने के लिए संसाधन नहीं है. पुराने घर लगभग उजड़ते हुए घर हैं.

मुझे पहाड़ी शहरों की पुरानी ढलवा छतें याद आती हैं,  अपने गाँव के घर की छत भी याद आती है, ढलवा छत की पठाल पर धीरे धीरे चलते हुये मेरी  दादी  खीरे और दाल की बड़ियाँ चादर पर फैलाती थी, फल और सब्जियों को पर धूप में सुखाती थी, ताकि सर्दी के दो महीनों की गुजर के लिए हमारे पास स्टॉक रहे.  दीवाली के ठीक पहले और होली के बाद यहीं  छतों पर महीने भर गद्दे, रजाईयां , और कालीन सूखते थे.  बच्चों को छत पर चढ़ने की मनाही थी फिर भी मैं  छत पर चुपके से बेडू  तोड़ने जाती ही थी. कभी चमचमाती रही होंगीं लेकिन दो सौ वर्षों पुराने उस घर की छत की पठालें गहरी स्लेटी और काली थी, खूब चटक धूप से दिन भर नहायी रहती थी, किसी तरह के मॉस या लाइकन, कोई नमी उनपर नहीं थी.  छत के अलावा ढैपर (एटिक)  को टटोलने में मुझे विशेष आनंद आता था,  एकदम से रहस्यलोक , घर में कोई नहीं जानता था की ढैपर में ठीक ठीक क्या है?   वहां मुझे अपने पिताजी और चाचा की स्कूल के जमाने की कॉपी किताबें मिली,  सौ-साल पुराने बारहसिंगा के सींग दिखे, घर के पुराने बड़े बर्तन, और बहुत सा अटरम-पटरम. पहाड़ में नए घरों में अब ढैपर नहीं है, ढलवा छत नहीं.…  

आठ बजते बजाते पूरा दल बाहर निकलने को तैयार है, कुछ १०-१५ मिनट मैं छोटे बच्चों के साथ बैठती हूँ, बच्चा पूछता है अमेरिका में क्या क्या है? मैं उसे अपने फ़ोन पर कुछ तस्वीर और वीडियो क्लिप्स दिखाती हूँ, बच्चा कहता है अरे यहीं के जैसा है. माउंट सेंट हेलेंस की और क्रेटर लेक की तस्वीर उसको अच्छी लगती है, ज्वालामुखी के मुँह  से निकलता धुँआ भी रोमांच से भरता है.  मुझे रवि की याद आती है, कैसे लगभग एक उम्र के सारे बच्चे एक से होते हैं, एक जैसे क्यूरियस, एक जैसे निर्दोष और उत्साह से भरे...

हम लोग घर से विदा लेते हैं,  आत्मीय विदा,  और मेघना होटल पहुँचते हैं, वहां ललित खत्री जी ने नाश्ते का इंतज़ाम किया है, एक तरह से खाना ही है , क्यूंकि अब सचमुच अनिश्चितता से भरी यात्रा शुरू होती है.  मेघना बहुत साफ़ सुथरा और अपने डिजायन में मोर्डर्न रेस्टोरेंट और होटल है.  जाते समय मैंने  एक रसगुल्ला खाया और फिर एक किलो लड्डू बंधवा लिए.  इसी बीच चलने की तैयारी हो रही है, और भूपेन के साथ हम दो तीन लोग पिथौरा का किला, जिसमें अब तहसील कार्यालय है, देख आतें हैं, वहां से पूरे शहर का नज़ारा बहुत ही खूबसूरत दिखता है, बाजार की थोड़ी टहल कर आतें हैं, और फिर धारचूला होते हुए नारायण आश्रम की तरफ कूच करते हैं......

1 comment:

असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।